सोमवार, 10 दिसंबर 2012

हवायें भी अक्सर...

अब तो हवायें भी अक्सर अपना रुख मोड़ लेती हैं, 
शर्म ओढ़े चेहरे से पल्लू जब सरकता है।
एक टिप्पणी भेजें