मंगलवार, 9 जुलाई 2013

हर आहट पर कान लगाये बैठा रहा कोई, 
की इक दस्तक हो और तू आये...
एक टिप्पणी भेजें