मंगलवार, 9 जुलाई 2013

ख्वाबो में तुम आते रहे...

ख्वाबो में तुम आते रहे,
यादों में तुम आते रहे,
मुड़ कर कभी देखा नही
हकीकत में जब तुम जाते रहे।

करते रहे बाते सभी
लोगो को हम भटकाते रहे,
करने को थी बाते बहुत
पर खुद में तुम इतराते रहे।

एक टिप्पणी भेजें